ख़बर शेयर करें -

रिपोर्ट :: कांता पाल, नैनीताल

Ad

नैनीताल :- उत्तराखंड हाईकोर्ट ने केदारनाथ यात्रा के दौरान हो रही घोड़े खच्चरों की मौतों के मामले में दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए चारो धामों के जिलाधिकारियों, पशुपालन विभाग सहित राज्य सरकार को नोटिस जारी कर 2 सप्ताह में जवाब दाखिल करने को कहा है। साथ ही कोर्ट ने यात्रा के सुरक्षित तरीके से चलाने के एक कमेटी का गठन करने को कहा है। मामले की सुनवाई के लिए कोर्ट ने 22 जून की तिथि नियत की है।
आपकों बता दे कि पशु प्रेमी गौरी मौलखी ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर कहा है कि उत्तराखंड के तीर्थ स्थलों में 20000 से ज्यादा घोड़े खच्चरों का यात्रियों समान ढोने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। जिसमें से अधिकतर घोड़े खच्चर बीमार हैं इन घोड़े खच्चरों में आवश्यकता से अधिक बोझ लादा जा रहा है यात्रा मार्ग पर इन घोड़े खच्चरों के जांच के लिए पशु चिकित्सक है और ना ही चारे पानी व छप्पर की कोई उचित व्यवस्था है। यात्रा मार्ग पर आवश्यक से अधिक श्रद्धालुओं के पहुचने से धक्का मुक्की और जहां तहां यात्रा मार्ग पर जानवरों की लीद से यात्रियों और घोड़े के फिसलने से कई मौत हो चुकी है। याचिकाकर्ता यह भी का कहना है कि यात्रा मार्ग पर जिन घोड़े खच्चरों की मौत हो रही उन्हें नदियों में फेका जा रहा है जिसे नदी का जल तो दूषित हो रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  जागो ग्राहक जागो :: सामान के साथ जोड़ा कैरी बैग का पैंसा..कोर्ट ने ठोका मॉल मालिक पर 50 हजार का जुर्माना..
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments