ख़बर शेयर करें -

नैनीताल ::::- आपदा प्रबंधन के अंतर्गत आगामी मानसून सत्र को दृष्टिगत रखते हुए तैयारियों को लेकर जिलाधिकारी वंदना सिंह की अध्यक्षता में कलैक्ट्रेट सभागार नैनीताल में संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक आयोजित हुई।

डीएम ने मानसून सत्र से निपटने के लिए सभी जनपदस्तरीय एवं तहसील स्तर के अधिकारियों को 15 जून तक सभी तैयारियॉ पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने विशेषकर लोक निर्माण , विद्युत, पेयजल, एनएच, पीएमजेएसवाई, पूर्ति विभागों के अलावा सहित सभी कार्यदायी संस्थाआंे के अधिकारियों को निर्देश दिये कि सभी मोटर मार्गों की नालियों की सफाई, बन्द पडे कल्मटों आदि को खोलने की कार्यवाही 15 जून तक पूर्ण करना सुनिश्चित करें । उन्होंने कहा कि इसके बाद आपदा के कार्यों में किसी भी अधिकारी के स्तर से कमी पाई गई तो दोषी के विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी । उन्होंने कहा मानसून सत्र के दौरान निर्धारित स्थानों पर जेसीबी की तैनाती करते हुये ऑपरेटरों के मोबाईल आपदा कन्ट्रोल रूम में प्रेषित किये जाय। उन्होंने सभी अधिकारियो को निर्देश दिये कि आपसी समन्वय स्थापित करते हुये कार्य किया जाय। उन्होने कहा जिन सड़क मार्गों के आस-पास मलबा पड़ा है उसे वहां से तत्काल हटा दिया जाय।
बैठक में जिलाधिकारी ने सभी एसडीएम को निर्देश दिये कि तहसील स्तर पर मानसून को दृष्टिगत रखते हुये कन्ट्रोल रूम स्थापित किये जाय। उन्होंने कहा कि कन्ट्रोल रूम मंे नामित अधिकारियों व कर्मचारियों के नाम व मोबाईल नम्बर आपदा कन्ट्रोल रूम में प्रेषित किये जाय। बैठक में जिलाधिकारी ने सिंचाई विभाग के अधिकारियो को निर्देश दिये कि 24×7 की तर्ज पर बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित किया जाय और कहीं पर भी जल भराव की सूचना मिलने पर तत्काल कन्ट्रोल रूम को सूचित किया जाय व सक्षम अधिकारी तत्काल आपदाग्रस्त क्षेत्र में पहुंचना सुनिश्चित करें। उन्होंने वन विभाग एव विद्युत के अधिकारियों को निर्देश दिये कि सड़क मार्ग से लगे पेड़ों की लापिंग का कार्य 15 जून तक व जो पेड़ अतिसंवेदनशील है उन्हें चिन्हित करते हुये उन्हें काटने की कार्यवाही की जाय।
बैठक मे जिलाधिकारी ने जल संस्थान के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वर्तमान मे जनपद में पेयजल आपूर्ति को सुचारू रूप से संचालित किया जाय। उन्होंने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि संवेदनशील विद्यालयों का चिन्हिकरण कर सूचना तत्काल कन्ट्रोल रूम को उपलब्ध करायी जाय। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि मानसून अवधि के दौरान सीएचसी, पीएचसी के चिकित्सको की बैठक करना सुनिश्चित करे। चिकित्सालयों मे पर्याप्त मात्रा में जीवन रक्षक दवाईयों, एंबुलेंस की उपलब्धता रखी जाय।
उन्होंने अधिकारियों को उन्होंने निर्देश की आपदा से संबंधित उपकरण एव अन्य सामग्री की आवश्यकता है तो तत्काल अवगत कराएं । उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि सक्षम अधिकारी रिस्पांस टाइम के अंदर घटनास्थल पर पहुंचे सुनिश्चित करें ।
बैठक में डीएम ने संबंधित अधिकारियो को मानसून अवधि में अलर्ट रहने के निर्देश दिए। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को बारिश के समय बंद होने वाले मोटर मार्गों को यथाशीघ्र यातायात हेतु सुचारू करने क्षतिग्रस्त पेयजल लाइनों का मैंटनेंस करने, बाधित विद्युत आपूर्ति को शीघ्र संचालन करने आदि सहित अनेक आवश्यक व्यवस्थाओं को लेकर संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया।
बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट, अपर जिलाधिकारी अशोक कुमार जोशी, सहित पुलिस, सेना, आईटीबीपी, एसडीआरएफ सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें 👉  मालधनचौड़ :: राजकीय महाविद्यालय में विश्व पर्यावरण दिवस पर निकाली रैली