ख़बर शेयर करें -

नैनीताल:::::: बार काउंसिल ऑफ उत्तराखण्ड ने निर्णय लिया गया है कि बार काउंसिल ऑफ उत्तराखण्ड में पंजीकृत अधिवक्ताओं के चार पहिया व दो पहिया वाहन पर बार काउंसिल ऑफ उत्तराखण्ड का स्टीकर प्रयोग किया जाए क्योंकि अक्सर सुनने में आता है कि जो अधिवक्ता स्टीकर बाजार में बिकते हैं उनका प्रयोग कोई भी व्यक्ति जो अधिवक्ता नहीं है वह भी अपने वाहनों में कर रहे हैं जिससे अधिवक्ता समाज की छवि धूमिल हो रही है। इन सब समस्याओं को दूर करने के लिए बार काउंसिल ऑफ उत्तराखण्ड अपना स्टीकर छपवा रहे है जिनका प्रयोग वाहनों में किया जाता है।
वही बार एसोसिएशन ने सभी सदस्यों, जिनके पास अपने नाम से दो पहिया / चार पहिया वाहन है, के पंजीकरण (आरसी०) एवं बार काउंसिल ऑफ उत्तराखण्ड का पहचान पत्र / बार एसोसिएशन के पहचान पत्र की फोटोप्रति अधिवक्ताओं से प्राप्त कर उसकी लिस्ट बना कर उसके साथ उपरोक्त दस्तावेज संलग्न कर 15 दिन के भीतर बार काउंसिल कार्यालय को भेजे ताकि स्टीकर छपवा कर अधिवक्ताओं को नॉमिनल शुल्क पर उपलब्ध करवाया जा सके।

Ad
यह भी पढ़ें 👉  हाईकोर्ट ने सोलिडवेस्ट मैनेजमेंट के नियमो का पालन करते हुए 45 दिन के भीतर जिला अधिकारी भीतर निर्णय लेंने के दिए निर्देश
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments