ख़बर शेयर करें -

नैनीताल :: उत्तराखण्ड हाईकोर्ट ने कुमाऊँ के लिए प्रस्तावित न्यू ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट जी. बी. पंत यूनिवर्सिटी की भूमि में बनाए जाने के खिलाफ दायर जनहित याचिका पर सुनवाई की। कोर्ट की खण्डपीठ ने जनहित याचिका को निरस्त कर दिया है। आज राज्य सरकार की ओर से कहा गया कि यह मामला अभी कैबिनेट में विचाराधीन है। जिस पर निर्णय लिया जाना अभी बाकी है। कहाँ पर एयरपोर्ट बनाया जाएगा कैबिनेट के निर्णय के बाद ही तय होगा। इसलिए जनहित याचिका को निरस्त किया जाय।
आपकों बता दे कि पंतनगर निवासी केशव कुमार पासी ने जनहित याचिका दायर कर कहा है कि कुमाऊँ के लिए प्रस्तावित न्यू ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट को पंतनगर यूनिवर्सिटी के बीच मे बनाया जाना प्रस्तावित है। प्रस्तावित एयरपोर्ट को उत्तराखंड के लोगों की सुविधा को ध्यान में रखकर बनाया जाए । न्यू ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट बनने से पंतनगर यूनिवर्सिटी के अस्तित्व को बचाया जाए। यहाँ पर एयरपोर्ट बनने से उत्तराखंड के लोगों को एयरपोर्ट पहुचने के लिए दिक्कतों का भी सामना करना पड़ेगा। प्रस्तावित एयर पोर्ट को यूनिवर्सिटी के बीच मे न बनाकर नैनीताल व उद्यम सिंह नगर की तलहटी में सरकार की खाली पड़ी लगभग 76 हजार 800 सौ एकड़ बंजर जमीन में बनाया जाए।विश्वविधालय के आसपास शिड्कुल, स्टेट हाइवे 37 ,पुराना एयरपोर्ट पाँच नदियां व 6 नहरें है। अगर यहाँ प्रस्तावित एयरपोर्ट बनता है तो विश्वविधालय का अस्तित्व खतरे में पड़ जायेगा। पन्तनगर एयरपोर्ट अभिभाजित उत्तर प्रदेश ने अपनी सुविधाओ को लेकर 1957 में बनाया गया था। अब उत्तराखंड अलग हो चुका है इसलिए नए एयरपोर्ट को उत्तराखंड की सुविधाओ के अनुसार बनाया जाय। सचिव नागरिक उड्डयन मंत्रालय भारत सरकार ने 16 मार्च 2020 को उधम सिंह नगर के बरहैनी में एयरपोर्ट के लिए प्रस्ताव माँगा गया था उसके बाद भी जिला अधिकारी ने गुपचुप तरीके से पंतनगर विश्वविद्यालय का प्रस्ताव भेजा । उन्होंने अपने प्रस्ताव में यह भी कहा कि इस जगह में आवादी नही है। जबकि यहां पर नगला, शिड्कुल, विश्वविद्यालय, किच्छा , रुद्रपुर आवादी वाले क्षेत्र है। अगर एयरपोर्ट प्रस्तावित क्षेत्र में बनाया जाता है तो आम लोगो को पुराने एयरपोर्ट से 14 किलोमीटर और दूर जाना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल टाइम्स :: नशा उन्मूलन की ओर विधिक सेवा प्राधिकरण की मुहिम