ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी ::::- 15 जुलाई को तीनपानी गोलापास रोड़ पर एक कार के अन्दर संदिग्ध अवस्था में एक व्यक्ति के होने की सूचना प्राप्त होने पर पुलिस द्वारा मौके पर पहुंचकर जांच प्रारंभ की गयी तो उक्त स्थान पर वाहन स0- यू0के 04 क्यू-1574 नीले रंग की पोलो कार जिसका ईंजन व ए0सी0 स्टार्ट दशा में था जिसकी पिछली सीट पर एक व्यक्ति अचेत अवस्था में पड़ा था जिसकी शिनाख्त अंकित चौहान पुत्र धर्मपाल चौहान निवासी म0न0 बी -11 रामबाग कालोनी रामपुर रोड़ हल्द्वानी के रुप में हुई ,जिसे अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों द्वारा मृत घोषित कर दिया गया मौके पर प्रथम दृष्टया मृतक के शरीर में कोई चोट आदि के निशान नही थे जिससे उक्त व्यवसायी की मृत्यु स्पष्ट नही हो पा रही थी।17 जुलाई को वादिनी ईशा चौहान की तहरीर के आधार पर कोतवाली हल्द्वानी पर मुकदमा अपराध संख्या 369/23धारा 302 भादवी पंजीकृत कर विवेचना प्रभारी निरीक्षक श्री हरेंद्र चौधरी के सुपुर्द की गई।

– मृतक अंकित की पोस्टमार्टम पंचायतनामा की कार्यवाही में बारीकी से निरीक्षण करने पर पाया गया कि उसके दोनों पैरों के पिछले हिस्से में दो बार सांप के काटने के सर्पदंश के निशान थे पोस्टमार्टम में डॉक्टर द्वारा भी सर्पदंश की पुष्टि की गयी ।जिससे अंकित की मृत्यु का कारण संदेहास्पद प्रतीत होने पर श्री पंकज भट्ट एस0एस0पी0 नैनीताल द्वारा तत्काल अधीनस्थों के साथ मीटिंग कर घटना के सम्बन्ध में विस्तृत चर्चा करते हुए एवं पोस्टमार्टमकर्ता चिकित्सकों से मृत्यु के कारणों के सम्बन्ध में जानकारी करने के उपरान्त घटना के समस्त पहलुओं की गहनता से जाँच करने हेतु अधीनस्थों को निर्देश दिये गये।


पंकज भट्ट, एसएसपी नैनीताल द्वारा हरबन्स सिंह एसपी सिटी हल्द्वानी, भूपेन्द्र सिंह धौनी क्षेत्राधिकारी हल्द्वानी के परिवेक्षण में अंकित की मृत्यु के संबन्ध मे घटनास्थल व उसके आस पास सीसीटीवी कैमरो का अवलोकन करने, मोबाइल सर्विलांस सैल डाटा डम्प करने,घटनास्थल एवं मृतक की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने एवं क्षेत्र में पतारसी सुरागरसी करने हेतु तत्काल 04 टीमों का गठन किया गया एंव स्वंय जाँच का निकट पर्यवेक्षण किया गया ।

🔷 गठित पुलिस टीमों द्वारा घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरो का गहनता से अवलोकन किया गया मोबाइल सर्विलांस टीम द्वारा मृतक के कॉल डिटेल की संपूर्ण जानकारी प्राप्त कर मृत्यु से पूर्व अंकित के सम्पर्क में आये व्यक्तियो का डाटा तैयार किया गया। पूछताछ टीम द्वारा मृतक के दोस्तों रिश्तेदारों व आस पड़ोस में पूछताछ की गयी। समस्त टीमों द्वारा किये गये प्रयासों से एँव घटनास्थल से पूर्व वाहन के उक्त स्थल पर पहुँचने तक के समस्त रूटों का सीसीटीवी से रूट मैप तैयार करने एंव पारम्परिक पुलिसिंग के माध्यम से एकत्र की गयी सूचनाओं के आधार पर यह तथ्य संज्ञान में आये कि मृतक का किसी महिला के साथ सम्बन्ध था एंव उक्त महिला एंव उसके साथी अंकित को काफी समय से ब्लैकमेल कर रहे थे। इसी तथ्य पर जाँच को केन्द्रित करते हुए समस्त टीमों द्वारा जाँच की गयी तो यह तथ्य संज्ञान में आये कि मृतक अंकित चौहान का माही नाम कि एक महिला के साथ मित्रता थी एंव घटना की तिथि में अंतिम समय वह माही के घर के लिए निकला था एंव अगले दिन उसका शव कार से बरामद हुआ। अंकित एँव माही तथा अन्य संदिग्धों की कॉल डिटेल का अवलोकन करने पर कुछ संदिग्ध नम्बरों की डिटेल निकालकर उनकी तलाश जारी रखी गयी तो इसी क्रम में घटना कि तिथि को लगातार माही के सम्पर्क में रहे एक संदिग्ध नम्बर जो कि रमेश नाथ के नाम से था जिसके सम्बन्ध में जानकारी करने पर यह ज्ञात हुआ कि उक्त व्यक्ति हल्द्वानी में किराये पर रहता था जो कि सपेरा है एंव साँप पकड़ने का कार्य करता है शक होने पर आज दिनाँक 18.07.2023 को उक्त व्यक्ति को हल्द्वानी से पकड़ा गया एंव सख्ती से पूछताछ की गयी तो उसके द्वारा हत्या कि साजिश का निम्न प्रकार खुलासा किया गया।
हत्या का कारण, साजिश एँव तरीका:–* अभियुक्त रमेश नाथ ने बताया कि वह हल्द्वानी में मानपुर पश्चिम में निवास करता है एंव घर-घर जाकर माँगने खाने एंव साँप पकड़ने का कार्य करता है। लगभग 7-8 माह पूर्व हल्द्वानी के एक व्यक्ति द्वारा मुझे माही से मिलवाया गया था एंव मुझे यह कहा था कि इस पर कालसर्प योग है तो पूजा हेतु एक नाग आपको पकड़कर लाना है। इसके कुछ समय बाद मेरा माही के घर आना जाना हो गया था। माही के घर पर ही अक्सर अंकित चौहान, दीप काण्डपाल एँव उसकी नौकरानी तथा नौकरानी का पति रामऔतार आते रहते थे। लगभग 20-25 दिन पहले हम सभी लोग माही के घर में थे तो माही एँव दीप काण्डपाल ने मुझसे कहा कि अंकित चौहान ने माही का जीना हराम कर दिया है वह कभी भी माही के घर पर आ जाता है और शराब पीकर इसके साथ काफी मारपीट करता है और दीप ने कहा कि माही अब मुझसे प्यार करती है लेकिन यह अंकित चौहान पीछा नही छोड़ रहा है, अब इसको निपटाना ही पड़ेगा, फिर इन्होनें मुझसे कहा कि अगर हम इसे ऐसे मारते हैं तो पुलिस हम पर शक करेगी इसलिए तुम एक जहरीला साँप पकड़कर ले आना हम अंकित चौहान को किसी बहाने से माही के घर बुलाकर उसे नींद की गोलियाँ देकर बेहोश कर देंगे और तुम साँप से उसे कटवा देना जिससे उसकी मृत्यु सामान्य सर्पदंश की घटना लगे इस काम के हम तुम्हें दस हजार रूपये भी देंगें और माही तथा दीप काण्डपाल ने माही की नौकरानी तथा उसके पति रामऔतार को भी दस-दस हजार रूपये देने की बात कही थी। मैं इन सबकी बात सुनकर हत्या की साजिश में शामिल हो गया और फिर मैंने 15-20 दिन पहले जंगल से एक जहरीला नाग पकड़ कर अपने पास रख लिया और यह बात माही एंव उसके साथियों को बता दी तो उन्होंने कहा तुम साँप अपने पास रखे रहो जैसे ही हमें मौका मिलेगा हम अंकित को घर बुला लेंगे। फिर दिनाँक 08.07.2023 को माही ने मुझे अपने घर पर साँप लेकर बुलाया और कहा कि आज अंकित का जन्मदिन है वह यहाँ आयेगा तुम घर में ही छुप जाओ मौका देखकर मैं तुम्हें बुला लूँगी। उस दिन अंकित चौहान घर पर आया और रामऔतार तथा उसकी बीवी भी माही के घर पर आ गये फिर ये सब लोग खाना पीना खाकर शराब पीकर रात भर नाचते रहे जब काफी देर तक अंकित चौहान सोया नही तो माही ने मुझसे कहा कि आज मौका नही है मैं किसी और दिन का प्लान करती हूँ। दिनाँक 14.07.2023 को दिन में माही ने मुझे फिर से साँप लेकर अपने घर पर बुला लिया और माही के घर पर माही के साथ दीप काण्डपाल, रामऔतार एंव उसकी पत्नी भी मौजूद थी । फिर माही ने सबको समझाया कि तुम सब लोग अन्दर मन्दिर वाले कमरे में छुप जाओ जब अंकित चौहान घर पर आयेगा तो मैं उसे आज नींद की गोलियाँ बहाने से पिला दूँगी फिर तुम्हें बुला दूँगी। रात लगभग 08.00 बजे माही ने दीप कान्डपाल, रामऔतार और उसकी बीवी को बुला और फिर कुछ देर बाद मुझे भी आवाज देकर बुलाया मैं अपने साथ एक टोकरी में नाग लेकर जब माही के कमरे में पहुँचा तो मैंने देखा कि इन चारों ने कम्बल डालकर अंकित को बेड पर पेट के बल लिटा रखा था और सब लोग अंकित को दबाये हुए थे फिर इन्होंने मुझसे कहा कि इसके पैरों में साँप से डसवा दो फिर इनके कहने पर मैंने योजना के अनुसार अंकित के पैर पर साँप से डसवाया जब कुछ देर तक भी अंकित के शरीर में हरकत होती रही तो इन्होंने कहा कि शायद जहर का असर नही हुआ है फिर मैंने दोबारा अंकित के पैर में साँप से डसवाया और ये लोग अंकित के मरने तक उसको दबाये रहे। फिर कुछ देर बाद जब अंकित मर गया तो उसके शव को उसकी कार में रखकर पहले उसे भुजियाघाट से नीचे खाई में फैंकने के लिए लेकर गये थे लेकिन सम्भव ना होने पर उसके शव को उसकी कार में ही गौला बाईपास रोड पर तीनपानी के पास छोड़कर भाग गये थे। माही ने पहले से ही दिल्ली से टैक्सी कार मँगा रखी थी जिससे हम सभी लोग हल्द्वानी से भाग गये। भागते समय रास्ते में जंगल में मेरे द्वारा साँप को छोड़ दिया गया था। माही ने रास्ते में मुझे हत्या में सहयोग करने के लिए शर्तानुसार दस हजार रूपये दिये थे फिर मैं अपने गाँव जाकर हल्द्वानी आया ही था कि आपने मुझे पकड़ लिया।

🔷 *गिरफ्तार अभियुक्त का नाम-* रमेश नाथ पुत्र भजन नाथ निवासी ग्राम अदकटा थाना भोजीपुरा बरेली हाल निवासी मानपुर पश्चिम हल्द्वानी जनपद नैनीताल।

फरार अभियुक्त

1- माही उर्फ डौली आर्या पुत्री श्री इन्द्रलाल निवासी शान्तिविहार कालौनी गौरापड़ाव हल्द्वानी नैनीताल।
2- दीप काण्डपाल निवासी हल्दूचौड़ थाना लालकुँआ जनपद नैनीताल

3- रामऔतार पुत्र लालाराम निवासी गाँव हैदरगंज पीलीभीत उ0प्र0।

4- श्रीमती ऊषा देवी पत्नी रामऔतार निवासी उपरोक्त।


पुलिस टीम

1. श्री हरेन्द्र चौधरी प्रभारी निरीक्षक कोतवाली हल्द्वानी

2. व0उ0नि0 विजय मेहता कोतवाली हल्द्वानी

3. व0उ0नि0 महेन्द्र प्रसाद कोतवाली हल्द्वानी

4. नन्दन सिंह रावत थानाध्यक्ष कालाढूंगी

5. नीरज भाकुनी थानाध्यक्ष वनभूलपूरा।

6. प्रमोद पाठक थानाध्यक्ष काठगोदाम।

7- उ0नि0 जगदीप सिंह नेगी चौकी प्रभारी मंगल पड़ाव ।

8- उ0नि गुलाब सिंह चौकी प्रभारी मण्डी।

9- उ0नि0 दिनेश चन्द्र जोशी चौकी प्रभारी राजपुरा।

10- एएसआई लखविन्दर सिंह ।

11- हे0का0 इसरार नबी, सीसीटीवी।

12- कानि0 02 अरुण राठौर चौकी मण्डी।

13- कानि0 वंशीधर जोशी कोतवाली हल्द्वानी।

14- कानि0 प्रदीप सिंह कोतवाली हल्द्वानी।

15- कानि.घनश्याम रौतेला कोतवाली हल्द्वानी।

16- कानि0 भगवान सैलाल कोतवाली हल्द्वानी।

एसओजी टीम

18- श्री राजवीर सिंह नेगी प्रभारी एसओजी।

19- हे0का0 त्रिलोक रौतेला।

20- कानि0 अनिल गिरी।

21- कानि0 भानुप्रताप।

22- कानि0 अशोक रावत।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा खुलासा करने वाली टीम के उत्साहवर्द्धन हेतु 5000 रूपये के नगद पारितोषिक से पुरूस्कृत किया गया ।


यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल :: इग्नू अब कराएगा भौतिकी ,भूगोल एवं सांख्यिकी में एमएससी