ख़बर शेयर करें -

मालधनचौड़/रामनगर :::- राजकीय महाविद्यालय मालधानचौड़ में एनएसएस स्वयंसेवियों ने बीज बम अभियान सप्ताह कार्यक्रम में प्रतिभाग किया और बीज बम बना कर सुखाने रखे है जिसे चार दिन के बाद जंगल में डाला जाएगा। स्वयंसेवियों से फलदार बीज एकत्र किए है।
प्रभारी प्राचार्य/एनएसएस कार्यक्रम अधिकारी मनोज कुमार ने कार्यक्रम के अंर्तगत बताया कि मानव और वन्यजीवों के बीच बढ रहे संघर्ष के कारण जलवायु परिवर्तन, वनाग्नि, जैव विविधता निरंतर प्रभावित होती जा रही है। जिस कारण वनों में वन्यजीवों की खाद्य श्रृंखला प्रभावित हुई है। वन्यजीव मानव बस्ती की तरफ रूख कर रहे हैं और मानव बस्ती के आस-पास अपना डेरा बना रहे है जिससे मानव जीवन खतरे में है। इसी के चलते उतराखंड में पलायन एक विकराल स्वरूप ले रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल टाइम्स : जिला न्यायाधीश सुजाता सिंह के मार्ग दर्शन में विशेष जागरूकरता रैली


वर्ष 2017 से हिमालय पर्यावरण जड़ी-बूटी एग्रो संस्थान “जाड़ी’ द्वारा बीज बम मिट्टी कम्पोस्ट का गोला बनाकर उसमें बीज डाला जाता है। जिसे चार दिन सुखाने के बाद जंगल में डाला जाता है। जो अनुकूल वातावरण पाते ही स्वतः अंकुरित हो जाता है। इस प्रयोग में अभी तक के अनुभव उत्साहजनक है। यह जीरो बजट कार्यक्रम है जिसकी पूरी प्रक्रिया बड़ी सरल है और आम जन के लिए आसानी से करना संभव है। जनभागीदारिता बढाने एवं प्रचार-प्रसार के लिये वर्ष 2019 से हर वर्ष 9 जुलाई से 15 जुलाई तक स्कूली छात्रों एवं पंचायतों के साथ बीज बम अभियान सप्ताह मनाया जाता है।
एनएसएस स्वयंसेवियों द्वारा स्थानीय जनप्रतिनिधियों और अपने आसपास के लोगो को भी इस अभियान के अंतर्गत जागरूक किया और फलदार बीज एकत्र करने और उसे बीज बम बनने का आवाह्न किया।
इस अवसर पर एनएसएस स्वयंसेवी लीडर अदिति खंतवाल, आकाशदीप, सचिन कुमार, शुभम, अंजली वंदना, सलोनी, शिवानी, मनीषा, तराना आदि उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल... 22 आईएएस अधिकारियों के विभागों में बदलाव...

इस दौरान राजकीय महाविद्यालय मालधानचौड़ नैनीताल में प्रभारी प्राचार्य /क्रीड़ा अधिकारी मनोज कुमार द्वारा नॉर्थ जॉन खेलकर आए अमनदीप को एक किट वितरित की।
कुमाऊं विश्वविद्यालय नैनीताल द्वारा किट महाविद्यालय को भेजी गई थी जो कि अमनदीप को आज दी गई है।
इस अवसर पर डॉ आनंद प्रकाश प्रो प्रदीप चंद्र शुभम ठाकुर, लीलाधर पपनै, राकेश चंद्र आदि उपस्थित रहे।