ख़बर शेयर करें -

नैनीताल :: – हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज के 27 छात्रों के साथ रैगिंग मामले में जांच के आदेश दिया है। कार्यवाहक चीफ जस्टिस संजय मिश्रा की कोर्ट ने कुमाऊं कमिश्नर और डीआईजी कुमाऊं की दो सदस्यीय कमेटी गठित की है और दो सप्ताह के भीतर जांच कर दोषियों के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज करने के आदेश भी दिए हैं। दरअसल सच्चिदानंद डबराल ने जनहित याचिका दायर कर कहा है कि हल्द्वानी के राजकीय मेडिकल कालेज में 27 छात्रों के सिर मुंडवाकर कर उनके साथ रैगिंग की गई. उनके पीछे बाकायदा एक सुरक्षा गार्ड भी चल रहा है. हालांकि, कॉलेज प्रबंधन का कहना है कि उसके पास रैगिंग की कोई शिकायत नहीं मिली है। याचिका में कहा गया कि मीडिया रिपोट्स में व वायरल वीडियो में पता लगा कि यह सभी छात्र एमबीबीएस प्रथम वर्ष के छात्र हैं. प्रथम वर्ष के सभी स्टूडेंट्स को बाल कटवाने के निर्देश इनके सीनियरों ने दिए हैं. इस मामले को रैंगिंग से जोड़कर देखा जा रहा है. जहां तक छात्रों के बाल काटने का मामला है, कॉलेज की तरफ से कहा जा रहा है कि छात्रों के सिर में डैंड्रफ व जुएं पड़ गए थे. इसलिए इनके बाल मुंडवा दिये.

यह भी पढ़ें 👉  बेमौसमी ओलावृष्टि और बारिश ने तोड़ी कास्तकारो की कमर 70 प्रतिशत फसल बर्बाद, सरकार से लगा रहे मदद की गुहार