ख़बर शेयर करें -

सितारगंज कोतवाली पुलिस ने कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा की हत्या की साजिश रचने वाले चार आरोपियों को 24 घंटे के भीतर ही गिरफ्तार कर लिया हैं। उनके कब्जे से 2.70 लाख रुपये व कार बरामद की गई है। पुलिस क्षेत्राधिकारी ओमप्रकाश शर्मा ने बताया कि नौ अक्टूबर को उमाशंकर द्विवेदी पुत्र मुन्नी लाल द्विवेदी निवासी वार्ड 11 ने कोतवाली में चार लोगों के खिलाफ कैबिनेट मंत्री बहुगुणा की हत्या की साजिश रचने की तहरीर दी थी। जिसमें हीरा सिंह, सतनाम सिंह उर्फ सत्ता, हरभजन सिंह व मो.अजीज उर्फ गुड्डू को नामजद किया गया था। इनके खिलाफ धारा 115, 120बी, 121ए व 34 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। पुलिस ने इन चारों को गिरफ्तार कर अजीज के कब्जे से 2.70 लाख रुपये व हीरा सिंह के कब्जे से स्विफ्ट कार बरामद की। पुलिस के अनुसार हीरा सिंह ने पूछताछ में बताया कि उसका अवैध खनन का काम बंद हो गया था। वह सरकारी जमीन से गेहूं चुराने के मामले में जेल चला गया था। उसे शक था कि यह सब बहुगुणा की वजह से हुआ। तभी से उसने बदला लेने की ठान ली थी। इसके लिए उसने जेल में बंद सतनाम से बात की। उसने जेल से बाहर आकर हरभजन के साथ अजीज से मिलने को कहा। दोनो से 20 लाख में बात हुुई। 5.70 लाख एडवांस दिये गये। हीरा के मुताबिक वह तब से बहुगुणा की गतिविधियों पर नजर रखने लगा। अजीज ने हीरा के बयान से सहमति जताते हुये कहा कि उसे 5.70 रुपये मिले। जिसमें से तीन लाख मां के ईलाज में खर्च हो गये। अब पुलिस आरोपियों के संपर्क में आये लोगों व मंत्री के भ्रमण के दौरान की सीसीटीवी की फुटेज जुटाने में लगी हैं। हीरा व सतनाम का आपराधिक इतिहास रहा है। उन्हें पकड़ने वालों में कोतवाल भारत सिंह, उप निरीक्षक विनोद सिंह फत्र्याल, कविन्द्र शर्मा, चंद्न सिंह, जगदीश चंद्र तिवारी, कांस्टेबल कपिल कुमार नरेन्द्र यादव, बलवंत सिंह, भारत भूषण, विनीत कुमार, भूपेन्द्र आर्य शामिल थे।

यह भी पढ़ें 👉  नाव, घोड़ा व्यवसाई समेत शहर में रेहड़ी फड़ लगाने वाले व्यवसाई ट्रेड लाइसेंस के लिए ऑनलाइन करें आवेदन
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments