ख़बर शेयर करें -

नैनीताल :: – उत्तराखंड हाईकोर्ट ने हरिद्वार में 2010 में हुए पुस्तकालय घोटाले के मामले में दायर जनहित याचिका पर आज हुई सुनवाई के दौरान याचिकर्ता द्वारा कहा गया कि अभी तक पुस्तकालयो का संचालन नही हुआ है ।जबकि सरकार की तरफ से कहा गया कि पुस्तकालयो का संचालन 2019 में हो गया था। मामले को सुनने के बाद कोर्ट की खण्डपीठ ने विपक्षी मदन कौशिक से चार सप्ताह के भीतर जवाब पेस करने को कहा है। मामले की सुनवाई के लिए कोर्ट ने चार सप्ताह के बाद कि तिथि नियत की है।
आपकों बता दे कि देहरादून निवासी सच्चिदानंद डबराल द्वारा हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा है कि 2010 में तत्कालीन विधायक मदन कौशिक के द्वारा विधायक निधि से करीब डेढ़ करोड़ की लागत से 16 पुस्तकालय बनाने के लिए पैसा आवंटित किया गया था पुस्तकालय बनाने के लिए भूमि पूजन से लेकर उद्घाटन तक का फाइनल पेमेंट कर दी गई। लेकिन आज तक धरातल पर किसी भी पुस्तकालय का निर्माण नहीं किया गया । इससे स्पष्ट होता है कि विधायक निधि के नाम पर विधायक ने तत्कालीन जिला अधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी समेत ग्रामीण निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता के साथ मिलकर बड़ा घोटाला किया गया ।
याचिकाकर्ता का कहना है कि पुस्तकालय निर्माण का जिम्मा ग्रामीण अभियंत्रण सर्विसेस को दिया गया और विभाग के अधिशासी अभियंता के फाइनल निरीक्षण और सीडीओ की संस्तुति के बाद काम की फाइनल पेमेंट की गई। जिससे स्पष्ट होता है कि अधिकारियों की मिलीभगत से बड़ा घोटाला हुआ है लिहाजा पुस्तकालय के नाम पर हुए इस घोटाले की सीबीआई जांच करवाई जाए।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल टाइम्स ::: कुविवि के डीएसबी परिसर में 24 दिसम्बर को होगा मतदान... अधिसूचना जारी