ख़बर शेयर करें -

नैनीताल ::::- कुमाऊं विश्वविद्यालय की ग्रेडिंग के लिए आई नैक टीम ने अपना निरीक्षण कार्य पूरा कर लिया है। अब विवि प्रशासन को नैक टीम की तरफ से दिए जाने वाले ग्रेड का इंतजार है। टीम द्वारा अपनी रिपोर्ट ऑनलाइन सबमिट कर दी गई। तीन दिवसीय दौरे के अंतिम दिन बुधवार को टीम के चेयरमैन प्रो. अमर राय (पूर्व कुलपति, मिजोरम यूनिवर्सिटी एवं नार्थ-ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी) ने देवदार सभागार में एग्जिट मीटिंग की। इसमें नैक टीम ने रिपोर्ट की एक कॉपी बंद लिफाफे में कुलपति को भी दी। इस रिपोर्ट में सिर्फ यह रहता है कि टीम ने जो मूल्यांकन किया, उसमें क्या पाया। फिलहाल यह रिपोर्ट तब तक लिफाफे में ही बंद रहेगी, जब तक नैक से विवि की नई ग्रेड को लेकर रिजल्ट जारी नहीं कर दिया जाता।

एक्जिट मीटिंग में नैक पीयर टीम के चेयरमैन प्रो० अमर राय ने कहा कि विश्वविद्यालय में अभी बहुत कुछ करना बाकी है। यह शिक्षकों को तय करना है कि वह खुद को और विश्वविद्यालय को कहां तक लेकर जाना चाहते हैं। प्रो. राय ने इन शब्दों में काफी कुछ कहने का प्रयास किया। नैक टीम के सदस्यों ने कहा कि आतिथ्य सत्कार बहुत अच्छा हुआ। यहां के लोगों का स्वभाव मिलनसार है। नैक टीम ने स्पष्ट रूप से निरीक्षण में क्या पाया इसको लेकर कुछ भी कहने से गुरेज किया। लेकिन यह जरूर माना कि कुमाऊं विश्वविद्यालय उच्च शिक्षा के क्षेत्र में सराहनीय कार्य कर रहा है।

कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. मनमोहन सिंह चौहान ने कहा कि टीम का दौरा अच्छा रहा। आईक्यूएसी के निदेशक प्रो. राजीव उपाध्याय एवं उनकी पूरी टीम इसके लिए विगत 3 साल से मेहनत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि विवि में जहां अच्छा है, वो अच्छा है। जहां सुधार की गुंजाइश की दिखी, वहां नैक टीम ने सुझाव दिए हैं। कोई भी व्यक्ति परफेक्ट नहीं होता है, हमेशा सुधार गुंजाइश बनी रहती है। नैक टीम ने जो सुझाव दिए हैं तो उन पर अमल करें तो विवि और आगे जाएगा।


नैक टीम ने सभी शैक्षणिक विभागों के अलावा छात्रावासों, खेल मैदान, पुस्तकालय, कैंटीन और डिस्पेंसरी में दी जा रही सुविधाओं का गहनता से मूल्यांकन किया। टीम ने हर विभाग में शोध, अनुसंधान के अलावा पेपर पब्लिकेशन, प्रोजेक्ट, प्लेसमेंट पर ध्यान केंद्रित करने की बात कही। टीम ने परीक्षा परिणाम, परिसर में दिव्यांग छात्र-छात्राओं को मिल रही सुविधाओं को लेकर सवाल भी पूछे।

एक्जिट मीटिंग में कुलसचिव श्री दिनेश चंद्रा, वित्त नियंत्रक अनीता आर्या, निदेशक आईक्यूएसी प्रो.राजीव उपाध्याय, अपर निदेशक आईक्यू०ए०सी० प्रो. प्रदीप गोस्वामी, प्रो. संतोष कुमार, प्रो. ललित तिवारी, प्रो. संजय पंत, प्रो. एमसी.जोशी, प्रो.सतपाल सिंह बिष्ट, प्रो. दिव्या उपाध्याय, प्रो.गीता तिवारी, प्रो.अनिल कुमार बिष्ट, डॉ.अशोक कुमार, डॉ.रितेश साह, डॉ.महेंद्र राणा, डॉ.गगनदीप होती , उप कुलसचिव दुर्गेश डिमरी, कैलाश जोशी के साथ विश्वविद्यालय के कई वरिष्ठ प्रोफेसर एवं अधिकारी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  महिलाओं ने पुलिस से बलात्कार के आरोपी को छुड़ाया...