ख़बर शेयर करें -

नैनीताल ::- नैनी महिला एवं बाल विकास समिति सूखाताल के तत्वाधान में संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार के सहयोग से हिमालय की संस्कृतिक विरासत के संरक्षण, संवर्द्धन एंव विकास के लिए उत्तराखंड लोकोत्सव कार्यक्रम भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय मल्लीताल नैनीताल में आयोजित किया गया। इस दौरान कलाकारों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए।
कार्यक्रम का उद्घाटन नेहरू युवा केंद्र की जिला युवा अधिकारी डालवी तेवतिया और विशिष्ट अतिथि सेवानिवृत प्रधानाचार्या गंगा राम ने किया। इस दौरान मोहन सिंह सयाना सेवानिवृत्त खंड शिक्षाअधिकारी,प्रधानाचार्य बीएस मेहता एंव संस्था की अध्यक्ष शैलजा ने संयुक्त रुप से दीप प्रज्वलित किया। संस्था ने 2 नवम्बर 2022 से 13 दिसंबर 2022 तक कुमाऊं की लोक कला ऐपण की 15-15 दिन की कार्यशाला, शक्ति स्वयं
सहायता समूह तथा नंदा स्वयं सहायता समूह में सुनीता आर्य के निर्देशन मे आयोजन किया गया। कुमाऊं की संस्कृति पर आधारित पारमपारिक पौराणिक लोक गीत व लोक नृत्य आदि का संस्था कार्यालय में शैलजा सक्सेना के निर्देशन में एक माह तक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में समूह की महिलाओं युवक युवतियों – हंसी रावत , कमला अधिकारी, मुन्नी, कमला, सुशीला,जानकी,कविता , कमला पवार,भावना ,गीता, तुलसी,शान्ति, विनोद,हरीश,सुनील,कुन्दन वंश आदि ने कार्यशाला में प्रशिक्षण प्राप्त किया । बुधवार को भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय में कलाकारों ने उत्तराखंड के लोक गीत लोक चित्र आदि की भव्य प्रस्तुति दी गई। कार्यक्रम में उत्तराखंड की संस्कृति को आक्षुणय बनाये रखना भी हमारा एंव संस्था का उददेशय है आज की युवा पीढी अपनी संस्कृति को भूलती एंव विलुप्त हो
रही है। लोक संस्कृति के संरक्षण एंव संवर्द्धन के लिए प्रचार प्रसार आवश्यक है। आज के बदलते परिवेश में अपनी विरासत को बचाना बहुत जरुरी है। संस्कृति के प्रति लगाव एंव जागरुक भी किया गया। साथ ही विद्यालय के छात्र छात्राओं को स्वच्छ भारत के प्रति जागरुक भी किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल :: नंदा-सुनंदा की आराधना में पंच आरती में उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति संजय मिश्रा हुए शामिल, मां नंदा-सुनंदा की होने वाली इस पंच आरती की विशेषता यह है
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Related News